0

बीवी की अदला बदली कर लिए चुदाई के मज़े Part -2

मैंने और सुधा ने अपने आप को टॉवल से साफ़ किया और अपने कपड़े पहन लिए। मैं सुधा से पहले पार्टी में पहुँचा तो मेरा सामना विनोद से हो गया, “लगता है तुम्हारे और सुधा में अच्छी खासी जमने लगी है। अब मेरा समय है कि मैं नेहा के सैक्स ज्ञान को और आगे बढ़ाऊँ।”

विनोद अब नेहा को खोज रहा था। नेहा कमरे के एक कोने में खड़ी अविनाश और मिनी से बातें कर रही थी। हकीकत में अविनाश बार स्टूल पे बैठा था और नेहा उसके पास एक दम सट कर खड़ी थी। अविनाश के दोनों हाथ उसकी कमर पर थे।

मैंने देखा कि विनोद नेहा के पास गया और उसके कान में कुछ कहा। नेहा उसकी बात सुनकर अविनाश से बोली, “सॉरी, मैं अभी आती हूँ।” यह कहकर वो गेस्ट रूम की और बढ़ गयी।

विनोद मेरी तरफ़ आया और बोला, “अब तुम्हारी बारी है देखने की।” यह कहकर वो भी गेस्ट रूम की और बढ़ गया। एक बार तो मेरी समझ में नहीं आया कि मैं क्या करूँ, फिर मैं भी उसके पीछे बढ़ गया। मैं भी देखना चाहता था कि वो मेरी बीवी के साथ क्या करता है।

विनोद के जाते ही मैं भी उसके पीछे जा खिड़की के पीछे वहीं छिप गया जहाँ थोड़ी देर पहले विनोद खड़ा था। विनोद और नेहा कमरे में पहुँच चुके थे, और नेहा उसे अविनाश और मिनी के बारे में बता रही थी। नेहा बता रही थी अविनाश कितना हँसमुख इन्सान था और वो उसे किस तरह के जोक्स सुना कर हँसा रहा था। Now Vinod is ready to fuck my wife and I can see through windowsaxy story in hindi.

विनोद ने नेहा से पूछा, “क्या तुम्हें अविनाश अच्छा लगता है?” “हाँ अविनाश एक अच्छा इंसान है और मिनी भी। दोनों काफी अच्छे हैं।” नेहा ने जवाब दिया। Avinash is dating with Nisha and try to go her on bad in saxy story in hindi and nisha also excited.

“नहीं सच बताओ क्या तुम अविनाश से चुदवाना चाहती हो, मुझे और सुधा को मालूम होना चाहिए। हम लोग पिछले साल भर से दोस्त हैं और तुम्हें नहीं मालूम कि अविनाश कितनी अच्छी चुदाई करता है,” विनोद ने कहा।

नेहा ने उसकी बात का कोई जवाब नहीं दिया पर वो इतना जरूर समझ गयी कि विनोद और सुधा आपस में अविनाश और मिनी के साथ चुदाई करते हैं। Neha denied his sex offer in saxy story in hindi and understand the feelings of Vinod and Avinash.

नेहा ने विनोद को बांहों में भर लिया और उसके होंठों को चूमने लगी। विनोद ने भी उसे बांहों भर कर अपना एक हाथ उसकी ड्रेस के अंदर डाल दिया। “तो आज तुमने भी पैंटी नहीं पहन रखी है,” कहकर वो उसके चूत्तड़ सहलाने लगा।

हे भगवान! मैं सुधा में इतना खोया हुआ था कि मुझे इस बात का पता ही नहीं चला कि मेरी बीवी बिना पैंटी के इतनी देर से पार्टी में घूम रही है।

“तो तुम्हें तुम्हारा नया खिलोना कैसा लगा। सुधा के पास भी वैसा ही खिलोना है, और उसे बहुत पसंद है। क्या तुम उसे ट्राई कर चुकी हो?” विनोद ने उसके कुल्हों को भींचते हुए कहा।

“कुछ खास अच्छी तरह से नहीं।” नेहा ने जवाब दिया। विनोद ने उसे अपना नया डिल्डो लाने को कहा। नेहा ने अपने बेडरूम से डिल्डो लाकर विनोद को पकड़ा दिया। Neha come with Dildo and Vinod push this in his pussy during saxy story in hindi .

विनोद ने नेहा को कमरे में रखी एक अराम कुर्सी पर बिठा दिया। विनोद अब जोरों से उसे चूमने लगा। मैंने देखा कि उसका एक हाथ सुधा की टाँगों को सहलाते हुए अब उसकी जाँघों पर रेंग रहा था। फिर उसने उसकी दोनों टाँगों को थोड़ा फैला दिया जिससे उसकी चूत पूरी तरह खुल कर नज़र आने लगी।

मेरी बीवी कुर्सी पर और पसर गयी और अपने टाँगें और फैला दीं जिससे विनोद को आसानी हो सके। विनोद ने उसकी टाँगों को ऊपर उठा कर कुर्सी के हथे पे रख दिया। जैसे ही विनोद ने अपना मुँह उसकी चूत का स्वाद लेने के लिए बढ़ाया, नेहा उसकी और कामुक नज़रों से देखने लगी। Vinod is now trying to lick her pussy in  saxy story in hindi and as he is bending to lick Neha get more excited.

कुर्सी ठीक खिड़की के बगल में थी। इसलिए मुझे अंदर का नज़ारा साफ दिखायी पड़ रहा था कि, किस तरह विनोद मेरी बीवी की चूत को चाट रहा था। विनोद चूत चाटने में माहिर था और थोड़ी ही देर में नेहा के मुँह से सिस्करी गूँजने लगी।

विनोद ने अब अपनी दो अँगुलियाँ अपनी जीभ के साथ नेहा की चूत मे डाल दी, और अंदर बाहर करने लगा। करीब पंद्रह मिनट तक उसकी चूत को चाटने के बाद विनोद उठा और डिल्डो को ले आया और उसका बटन ऑन करके उसे चालू कर दिया।

मेरी बीवी कुर्सी पर पसरी हुई कामुक नज़रों से विनोद को देख रही थी। वो जानती थी कि एक दूसरा मर्द अब उसकी चूत में एक खिलौने को डालने वाला है। विनोद घुटनों के बल बैठ कर नेहा की टाँगों के बीच आ गया और उसकी गीली हो चुकी चूत में डिल्डो को डालने लगा। उसने धीरे-धीरे डिल्डो अंदर घुसाया और अब वो प्लास्टिक का खिलौना नेहा की चूत में पूरा घुस चुका था।

डिल्डो की हर्कत का असर मेरी बीवी के चेहरे पे साफ दिखायी दे रहा था, वो अपनी टाँगों को पूरा भींच कर डिल्डो का मज़ा लेने लगी। मेरा लंड भी ये सब देख एक बार फ़िर तन चुका था, जबकि बीस मिनट पहले ही मैं सुधा की गाँड में झड़ कर अलग हुआ था।

विनोद अब खड़ा होकर अपनी पैंट के बटन खोलने लगा। उसने नेहा के चेहरे के पास आकर अपना एक घुटना कुर्सी के हथे पे रख दिया। उसका लंड नेहा के चेहरे पे झटके मार रहा था। नेहा ने मुस्कुरा कर उसकी तरफ़ देखा और अपना मुँह खोल कर उसके लंड को अंदर ले लिया। Now Neha is sucking his dick and he starts moaning in saxy story in hindi, Neha is expert in sucking.

“नेहा मैं चाहता हूँ कि तुम मेरा लंड ठीक उसी तरह चूसो जैसे तुमने पहली बार चूसा था। एक हाथ से मेरे लंड को चूसो और दूसरे हाथ से मेरी गोलाइयों को सहलाओ। सच में बहुत मज़ा आया था जब तुमने ऐसा किया था!” नेहा वैसे ही उसके लंड को जोरों से चूस रही थी। दोनों की गहरी होती साँसें और बदन की हर्कत बता रही थी कि दोनों ही छूटने के करीब हैं।

एक तो नेहा की चूत में डिल्डो की हर्कत, ऊपर से विनोद का लंड। नेहा उत्तेजित हो कर विनोद के लंड को अपने गले में ले कर चूस रही थी। विनोद भी उसके मुँह में लंड पूरा अंदर डाल कर चोद रहा था। अचानक बिना बताये विनोद ने अपना लंड उसके मुँह से निकाला और अपना पानी नेहा की चूचियों पर और चेहरे पे छोड़ दिया

मैं तीन फ़ुट की दूरी पर खड़ा देख रहा था कि आपत्ति जताने की बजाये नेहा उसके पानी को अपने पूरे चेहरे पे रगड़ने लगी। फिर उसके रस से भरी अपनी अँगुलियों को चाटने लगी। उसकी हर्कत ने मेरे लंड में जोश भर दिया और मैं अपने लंड को पैंट के ऊपर से रगड़ने लगा।

जब विनोद का पूरा वीर्य झड़ गया तो वो उठ कर खड़ा हो गया। नेहा अब भी कुर्सी पर लेटी हुई डिल्डो का मज़ा ले रही थी। विनोद ने नेहा का हाथ पकड़ कर उसे उठाया और बाथरूम मे ले गया। मैंने देखा कि वो एक दूसरे को साफ कर रहे थे। बाथरूम से बाहर आकर विनोद ने अपने कपड़े ठीक किए पर जब नेहा अपनी ड्रेस देखने लगी तो पाया कि विनोद के वीर्य के धब्बे उसकी ड्रेस पर भी गिर पड़े थे।

नेहा को उदास देख विनोद ने कहा, “डीयर उदास नहीं होते, ऐसा करो जो उस रात तुमने ड्रेस पहनी थी वही पहन लो, तुम पर वो ड्रेस खूब जँच रही थी।”  Vinod told to Neha saxy story in Hindi and enjoy the sex event you did last night don’t bother with hubby.

नेहा बेडरूम में गयी और अपनी टाईट जींस और टॉप लेकर आ गयी। विनोद ने उसे बांहों में भर लिया और फिर नेहा को ले जाकर उसी कुर्सी के पास खड़ा कर दिया।

विनोद कुर्सी पर बैठ गया और मेरी बीवी उसके सामने नंगी खड़ी थी। उसकी चूत एक दम फुली हुई लग रही थी क्योंकि वो डिल्डो अभी भी उसकी चूत में घुसा हुआ था। जैसे ही नेहा ने वो डिल्डो बाहर निकालने के लिए अपना हाथ बढ़ाया तो विनोद बोला, “तुम्हें इसे बाहर निकालने की इजाजत किसने दी?” अब ये साफ हो गया था विनोद चाहता था कि वो डिल्डो उसकी चूत मे ही घुसा रहे।

विनोद ने अब उसकी जींस अपने हाथों मे ले ली। उसके बदन को सहलाते हुए वो उसे जींस पहनाने लगा। नेहा ने भी अदा से पहले अपनी एक टाँग उसमें डाली और फिर दूसरी। इसी दौरान एक बार डिल्डो उसकी चूत से फिसलने लगा तो विनोद ने वापस उसे पूरा अंदर घुसा दिया।

नेहा ने अपनी टाईट जींस का ज़िपर खींचा और उसके बाद बटन बंद करने लगी। पर उसको काफी तकलीफ हुई क्योंकि डिल्डो जो उसकी चूत मे घुसा हुआ था। उसने अपना लाल टॉप भी पहन लिया। इतनी टाईट जींस में वो बहुत सैक्सी लग रही थी। फिर नेहा ने अपने लाल सैंडल उतार कर दूसरे काले रंग के हाई हील के सैंडल पहन लिए। विनोद और नेहा पार्टी में जाने को तैयार हो गये।

मैं भी खिड़की से हटा और हाल में आ गया। शराब और शबाब जोरों से चल रही थी। किसी ने ध्यान नहीं दिया कि तीन लोग इतनी देर पार्टी से गायब थे। मैं सुधा के पास आ गया जो अविनाश और मिनी के साथ बातें कर रही थी। जैसे ही विनोद और नेहा हाल में आये, मैं अपने आपको नेहा की चूत की तरफ़ देखने से नहीं रोक पाया। सिर्फ़ मैं जानता था कि उसकी चूत में एक डिल्डो घुसा हुआ है। उसकी जींस उस जगह से थोड़ी उठी हुई थी, ये मुझे साफ दिखायी पड़ रहा था। पता नहीं आगे और किस किस का ध्यान इस बात की और जाता है।

नेहा मेरे पास आयी और गले में बांहें डाल कर मेरे होंठों को चूम लिया। ऐसा वो सबके सामने करती नहीं थी पर शायद एक तो चूत में डिल्डो और दूसरा उसकी चूत ने अभी तक पानी नहीं छोड़ा था इसलिए उसके शरीर में उत्तेजना भरी हुई थी। फिर उसने विनोद के साथ गेस्ट रूम में जाने से पहले शराब भी पी थी जिसके सुरूर उसकी मदहोश आँखों में साफ-साफ दिख रहा था। मैंने अंजान बनते हुए नेहा से पूछा, “तुमने कपड़े क्यों बदल लिए?” why are you changed the dress during saxy story in hindi She said want to sex so she changed.

“बस कपड़ों पर कुछ गिर गया था।” नेहा ने जवाब दिया। कम से कम वो झूठ तो नहीं बोल रही थी। इतने में विनोद ने मेरी तरफ़ मुस्कुरा के देखा। उसकी आँखों मे एक शैतानी चमक थी। मैं समझ गया कि आज रात बहुत कुछ होने वाला है।

करीब एक घंटे तक नेहा इस तरह पार्टी में चारों तरफ़ घूमती रही जैसे कुछ हुआ ही ना हो। चूत मे डिल्डो लिए एक अच्छे मेहमान नवाज़ की तरह सब से मिल रही थी। सबको ड्रिंक, स्नैक्स सर्व कर रही थी। मुझे पता थी कि उसकी चूत में आग लगी हुई है और वो कभी भी पानी छोड़ सकती है। Neha is serving cold drinks and snacks to guest in saxy story in hindi and dildo vibrated in his pussy .

इतने में सुधा मेरा हाथ पकड़ कर अपने साथ डाँस करने के लिए ले आयी। हम हाल के एक कोने में डाँस कर रहे थे जहाँ ज्यादा लोग हमारे पास नहीं थे। मैंने मौके का फ़ायदा उठा कर अपना हाथ उसकी ड्रेस में डाल दिया और उसकी चूत से खेलने लगा। सुधा ने मेरे कान में फुसफुसाते हुए कहा, “सुशीलमैं जानती हूँ कि विनोद ने नेहा के साथ क्या किया है। ये उसका पुराना खेल है। वो नेहा की ऐसी हालत कर देगा कि वो अपनी चूत का पानी छुड़ाने के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जायेगी। पता नहीं विनोद के दिमाग में क्या शरारत भरी हुई है।

इतने में अविनाश ने मेरी बीवी से डाँस करने के लिए कहा। नेहा ने विनोद की और देखा और विनोद ने आँख से इशारा करते हुए उसे जाने को कहा। मैंने देखा कि नेहा का बदन मारे उत्तेजना के काँप रहा था। वो बड़ी मुश्किल से अपने आपको रोक रही थी।

इतने में मिनी ने भी मुझे डाँस करने के लिए कहा। मैं समझ गया कि ये इशारा विनोद ने उसे किया है। अब हम चारों अविनाश के पास आकर डाँस करने लगे। मैं समझ गया कि विनोद के मन में सामुहिक चुदाई का प्रोग्राम है। मिनी इतनी सैक्सी और गरम थी कि मैंने उसे चोदने का पक्का मन बना लिया था, पर मुझे नेहा का नहीं पता था कि वो अविनाश से चुदवायेगी कि नहीं।

पर मुझे इसकी चिंता नहीं थी। मुझे पता था कि नेहा की चूत में इतनी देर से डिल्डो होने की वजह से उसकी चूत की हालत खराब हो चुकी होगी। नेहा अपनी चूत का पानी छोड़ने के लिए अब किसी घोड़े से भी चुदवा सकती है।

मिनी ने मेरी तरफ़ कामुक निगाह से देखा और कहा, “सुशीलआज तक मैं विनोद जैसे मर्द से नहीं मिली। वो चुदाई की कलाओं में इतना माहिर है कि वो किसी औरत को किसी भी मर्द से चुदवाने को उक्सा सकता है।” मैं समझ गया कि वो नेहा की बात कर रही है।

हम चार जने ही फ़्लोर पर डाँस कर रहे थे। मिनी ने धीरे से मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूत पे रख दिया। जैसे ही मेरा हाथ उसकी चूत को छुआ, मैं चौंक कर उछाल पड़ा। उसकी भी चूत में एक डिल्डो घुसा हुआ था।

“ये ठीक वैसा ही है जैसा तुम्हारी बीवी की चूत में घुसा हुआ है।” उसने मेरे हाथों का दबाव अपनी चूत पे बढ़ाते हुए कहा। मैं समझ गया कि ये सब विनोद का काम है। उसने दो औरतों को इतना उत्तेजित कर दिया था कि वो चुदाने के लिए कुछ भी कर सकती थीं।

नाचते हुए मैंने नेहा और अविनाश की और देखा। अविनाश का एक हाथ मेरी बीवी की चूत पर था और वो उस डिल्डो को और अंदर तक उसकी चूत में घुसा रहा था। फिर मैंने देखा कि नेहा उसका हाथ पकड़ कर उसे हाल के बाहर ले जा रही है। मैं सोच रहा था कि पता नहीं अब आगे क्या होने वाला है? मैं भी मिनी को अपने साथ ले उनके पीछे चल दिया।

नेहा और अविनाश कमरे में पहुँचे और उनके पीछे-पीछे विनोद और सुधा और फिर मैं और मिनी भी कमरे में आ गये। अब ये बात सब पे खुलासा हो चुकी थी कि आज सब एक दूसरे की चुदाई करेंगे।

मिनी मेरे पास आकर मुझसे सट कर खड़ी हो गयी। उसकी आँखों में भी उत्तेजना के भाव थे। लगता था कि विनोद ने उसे भी डिल्डो को छूने की मनाई की हुई थी। बेटरी पे चलता डिल्डो उसकी चूत में आग लगाये हुए था। पता नहीं विनोद ने क्या जादू इन दोनों पे किया हुआ था।

विनोद ने भी शायद उनकी आँखों में छिपी वेदना को पढ़ लिया था, “तुम दोनों चिंता मत करो, आज तुम दोनों की चूत से पानी की ऐसे बौछार छुटेगी जैसे इस कमरे में बाढ़ आ गयी हो। आज तुम को चुदाई का वो आनंद आयेगा कि तुम दोनों जीवन भर याद करोगी।”

“लेकिन नेहा की पहली बारी है, क्योंकि आज की दावत उसकी तरफ़ से थी। लेकिन ये बाद में… पहले मैं चाहता हूँ कि नेहा अपने काबिल-ए-तारीफ़ मुँह से अविनाश के लंड से एक एक बूँद पानी निचोड़ ले। लेकिन वो अपनी जींस नहीं उतारेगी और ना ही अपनी चूत पर हाथ रख सकेगी। अगर अविनाश ने इसके काम की तारीफ़ की तो मैं इस विषय पर सोचूँगा। सुशीलऔर मिनी खड़े होकर इनहें देख सकते हैं लेकिन यही बात मिनी पर भी लागू होती है। तब तक मैं और सुधा मेहमानों का खयाल रखेंगे। जब अविनाश का काम हो जाये तो सुशीलमेरे पास आकर, आगे क्या करना है, पूछ सकता है।” इतना कहकर विनोद और सुधा वापस हाल में चले गये।

नेहा अविनाश का हाथ पकड़ कर उसे गेस्ट बेडरूम मे ले गयी। मुझे विश्वास नहीं आ रहा था कि थोड़े दिन पहले तक जिस औरत ने शादी के बाद सिवाय मेरे किसी से नहीं चुदवाया था… आज वो फिर एक गैर मर्द का लंड चूसने जा रही है।

मैंने मुड़ कर मिनी की तरफ़ देखा। उसकी भी हालत खराब थी। मिनी भी रूम की तरफ़ बढ़ी तो मैं उसके चूत्तड़ को देखने लगा। कितने गोल और भरे हुए थे। मैं जानता था कि उसकी चूत में डिल्डो होने की वजह से वो अपनी टाँगें सिकोड़ कर चल रही थी।

जैसे ही हम रूम में पहुँचे मैंने दरवाज़ा लॉक कर दिया। नेहा उत्तेजना में इतनी पागल थी कि बिना समय बिताये वो घुटनों के बल बैठ कर अविनाश की जींस के बटन खोलने लगी। वो जानती थी कि जितनी जल्दी वो अविनाश का लंड चूस कर उसका पानी छुड़ायेगी, उतनी जल्दी ही उसकी चूत को पानी छोड़ने का मौका मिलेगा। Now she is sucking the dick of Avinash and told saxy story in hindi.

नेहा ने जल्दी-जल्दी अविनाश की जींस के बटन खोले और उसकी जींस और अंडरवियर को नीचे खिसका दिया। जैसे कोई साँप बिल के बाहर आ गया हो, उस तरह उसका दस इंची लंड जो कि तीन इंच मोटा होगा, फुँकार कर खड़ा हो गया। नेहा उस विशालकाय लंड को अपने हाथों में ले कर सहलाने लगी।saxy story in hindi is open his pant and take the big dick in her mouth and start sucking.

पर देखने लायक तो उसके लंड की दो गोलाइयाँ थीं जो टेनिस बॉल की तरह नीचे लटकी हुई थी। इतनी बड़ी और भरी हुई थी कि शायद पता नहीं कितना पानी उनमें भरा हुआ है। नेहा अब उसके लंड को जोर से रगड़ रही थी। उसे पता था कि उसका पति और अविनाश की बीवी उसे देख रहे हैं।saxy story in hindi is now rubbing her dick for erecting hard and cum early so that he fucks her early.

मैं जानता था कि नेहा के घुटनों के बल बैठते ही डिल्डो और अंदर तक उसकी चूत में घुस गया था। नेहा ने अपनी जुबान बाहर निकाली और उसके लंड के सुपाड़े पे घुमाने लगी। मेरे और मिनी के शरीर में गर्मी बढ़ती जा रही थी। मिनी मेरे गले में बाहें डाल कर मेरे होंठों को चूसने लगी। उसके जिस्म में फ़ैली आग और बदन से उठती खुशबू मुझे पागल कर रही थी। मैं भी उसे सहयोग देते हुए अपनी जीभ उसके मुँह में डाल कर घुमाने लगा। saxy story in hindi now kissing with mini and she lick her lips and her tongue is tingling in her mouth. she is getting more excited and want to lick her nipples also they rub their body with each other.

मैं उसके होंठों और जीभ को चूस रहा था तो वो अपनी टाँगें फैला मुझसे बोली, “सुशीलमेरे बदन को सहलाओ ना प्लीज़।” मैंने उसकी ड्रेस के सामने की ज़िप को नीचे कर दिया और उसकी चूचियों को बाहर निकाल लिया। उसके निप्पल इतने काले थे कि क्या बताऊँ। मैं उसकी एक चूँची को अपने हाथों मे पकड़ कर रगड़ने लगा और चूसने लगा। उसके शरीर की कंपन बता रही थी कि उसने अपने आप को मुझे सौंप दिया था लेकिन मैं उसकी चूत से नहीं खेल सकता था।saxy story in hindi Wants to get fucked  from me and I also ready.

मैं उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा और अपने हाथ के दबाव से डिल्डो को और अंदर की तरफ़ धकेल दिया। मैं उसकी पैंटी को उतार कर उसकी चूत को चूमना चाहता था पर उसने मुझे रोक दिया, “सुशीलनहीं शर्त का उसूल है कि तुम उसकी बात को टालोगे नहीं।”

मैंने घूम कर नेहा की तरफ़ देखा कि वो क्या कर रही है। मैंने देखा कि नेहा अपना मुँह खोले अविनाश के लंड को चूस रही है और एक हाथ से उसकी गोलियों को सहला रही है। इतने में ही नेहा ने अपने मुँह को पूरा खोला और अविनाश के दस इंची लंड को पूरा अपने गले तक ले लिया। अब उसके होंठ अविनाश की झाँटों को छू रहे थे। नेहा धीरे से अपने मुँह को पीछे की और करके उसके लंड को बाहर निकालती और फिर गप से पूरा लंड ले लेती। saxy story in hindi is licking her whole body and enjoy the sweetness of her body.

नेहा के दोनों छेदों में लंड घुसा हुआ था। असली दस इंची लंड उसके मुँह में और नकली प्लास्टिक का ग्यारह इंची उसकी चूत में।

नेहा अब जोरों से अविनाश के लंड को चूस रही थी। मेरी और मिनी की आँखें इस दृश्य से हटाये नहीं हट रही थीं। इतने में मिनी भी घुटनों के बल बैठ कर मेरी जींस के बटन खोलने लगी। उसके घुटनों को बल बैठते ही डिल्डो उसकी चूत के अंदर तक समा गया और उसके मुँह से सिस्करी निकल पड़ी, “आआआआआआआआआहहहहहह”

मिनी ने मुझे घुमा कर इस अंदाज़ में खड़ा कर दिया कि मैं उसके पति के सामने खड़ा था। अब वो मेरा लंड अपने मुँह मे ले जोरों से चूस रही थी। दोनों औरतें अपनी चूत में डिल्डो फ़ँसाय किसी दूसरे मर्द का लंड चूस रही थीं। आज की शाम नेहा के लिए अविनाश दूसरा मर्द था जिसक लंड वो चूस रही थी और मेरे लिए मिनी दूसरी औरत। एक की मैंने गाँड मारी थी और दूसरी अब मेरा लंड चूस रही थी।

मैंने देखा कि वो औरत मेरे लंड को चूस रही थी जिससे मैं चंद घंटे पहले ही मिला था, और मेरी बीवी उसके पति के लंड को चूस रही थी। दोनों औरतें एक दूसरे के पति के लंड को चूसे जा रही थी। धीरे-धीरे उनके चूसने की रफ़्तार बढ़ने लगी और इतने में अविनाश के मुँह से एक सिस्करी निकली, “हाँ….. ऐसे ही चूसो… चूसती जाओ…।” saxy story in hindi now going to cum and she is moaning now.

मिनी ने अपने पति की सिस्करियाँ सुनीं तो अपने मुँह से मेरे लंड को निकाल कर अपने पति को देखने लगी। जैसे-जैसे नेहा की चूसने की रफ़्तार बढ़ रही थी वैसे ही अविनाश के शरीर की अकड़न बढ़ रही थी। उसका शरीर अकड़ा और उसके लंड ने अपने वीर्य की बौंछार नेहा के मुँह में कर दी। मैंने देखा कि बिना एक बूँद भी बाहर गिराये नेहा उसके सारे पानी को पी गयी।

नेहा की हरकत देख मिनी भी जोश में भर गयी और मेरे लंड को जोर से चूसने लगी। मुझसे अब रुका नहीं जा रहा था। मैंने मिनी के सर को पकड़ा और पूरी तरह अपने लौड़े पे दबा दिया। मेरा लंड उसके गले तक घुस गया और तभी लंड ने जोरों की पिचकारी उसके मुँह में छोड़ दी।

हम चारों को अपनी साँसें संभालने में थोड़ा वक्त लगा। हम चारों ने कपड़े पहने और वापस पार्टी में आ गये जो करीब-करीब समाप्त होने के कगार पर थी। हम दोनों मर्दों के चेहरे पे तृप्ति के भाव थे पर दोनों औरतें अभी भी प्यासी थीं। एक तो उनकी चूत ने पानी नहीं छोड़ा था और दूसरा उनके मुँह में हम दोनों के लंड का पानी था। वो बार-बार अपनी जीभ से होंठों पे हमारे लंड के पानी को पोंछ रही थीं। वो दोनों जाकर विनोद के पास खड़ी हो गयी जो पार्टी में आयी किसी महिला से बातों में व्यस्त था।

हम दोनों भी विनोद के पास पहुँच गये। शायद दोनों औरतों की तड़प उससे देखी नहीं गयी। वो भी जानता थी कि नेहा और मिनी पिछले तीन घंटे से डिल्डो अपनी चूत में लिए घूम रही हैं और अब उनकी चूत भी पानी छोड़ना चाहती होगी। “चलो सब मेहमानों को अलविदा कहते हैं और हम अपनी खुद की पार्टी शुरू करते हैं”, विनोद ने कहा, “मेरा विश्वास करो निशा… आज की रात बहुत ही स्पेशल होगी। जो मज़ा तुम्हें आज मिलेगा उस मज़े की कभी तुमने कल्पना भी नहीं की होगी!”

मैं सोच रहा था पता नहीं विनोद के दिमाग में अभी और क्या है। नेहा हाल में सभी मेहमानों का ख्याल रखने लगी। थोड़ी ही देर में सब मेहमान एक के बाद एक, जाने लगे। saxy story in hindi now getting horny again and try to find new dick from the party.

नेहा जैसे ही किसी काम से नीचे को झुकती तो उसकी गाँड थोड़ा सा ऊपर को उठ जाती। विनोद उसे ही घूर रहा था, “सुशीलअब मैं तुम्हारी बीवी की गाँड मारूँगा जैसे तुमने मेरी बीवी की मारी थी।”

 

Hindi Antarvasna

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *